Friday, July 31, 2009

सुसाशन के सरकार से बदलता बिहार

गौरवशाली बिहार एक ऐसा प्रदेश जिसके बारे मे लोग कुछ दिन पहले अपराध,लुट,अपहरण,बेरोजगारी, असिक्षा के बारे मे बाते करते थे! यहाँ पर पुलिश प्रशाशन सब मूक दर्शक बने हुए थे !अपराधियों के अत्याचार,असामाजिक तत्वों का दबाव जिसे आम आदमी से लेकर उच्च अस्तर के अधिकारी भी आतंकित थे ! यह समय था बिहार मे राजद सरकार की जिसका मुखिया थे लालू प्रसाद यादव जिन्होंने जातिगत समीकरण को आधार बनाकर मुस्लिम एव यादवो को ठगने के साथ-साथ अन्य जाती के लोगो को भी उनके बिकाश तथा मौलिक अधिकारों से बंचित रखा १५ बर्षो के शासनकाल के दौरान उन्होंने बिहार को ४० बर्ष पीछे भेज दिया,जिसका परिराम हुआ की, आज यहाँ की गरीब एव बेरोजगार युवा पीढी झेल रही है ! लेकिन अब इन सब के बावजूद बिहार मे बिकाश रूपी नैया के खेवनहार मिल गया है !और आज वही बिहार दिन दुनी रात चौगुनी बिकाश के पथ पर अग्रसर है !कुछ दिन पहले जहा लोग बिहारी कहलाने से हिचकते थे,लेकिन वही आज पुरे देश मे गर्व के साथ लोग बिहारी कहलाना पसंद कर रहे है ! यह सब कुछ संभव हो पाया है,बिहार मे चल रहे राजग के साशन से जहा सिक्षा बेरोजगारी बिजली सड़क पानी सवास्थ्य जैशे सुबिधाये हर किसी को आसानी से मिल रही है !और यहाँ के जनता खुशहाल है,लेकिन यह सब कुछ लोजपा राजद गठबंधन को रास नहीं आ रही है,उसे पिछले राजद सरकार के तरह ही जनता को भोला समझ कर एक बार फिर से सता की चाबी अपनी हाथो मे करने की कवायद सुरु हो चुकी है तभी तो लालू प्रसाद यादव अपने कार्यकताओ को अपने हाथो से खाना परोसने का काम करने तथा अभी से ही उन्हें लुभाने रिझाने एव अच्छा ताल मेल बनाकर चलने के लिए अब सीधे कार्यकर्ताओ से फ़ोन पर बात करने की आश्वासन दे रहे है !वही दूसरी ओर लोजपा प्रमुख रामबिलाश पासवान जो इस बार के लोक सभा चुनाव मे अपना भी संसदीये सीट नहीं बचा सके और इसके साथ ही दूसरी ओर पार्टी का सुपरा साफ हो चूका है !इनसब के बावजूद जहा उन्हें अपनी हार की समीक्षा करना चाहिए तो वह इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन से मतदान करने के कारण पार्टी का हार बता रहे है !